दिग्विजय सिंह का बदला अंदाज़ इन दिनों चर्चा में है. बीजेपी अब तक उनके मुकाबले के लिए प्रत्याशी भी नहीं ढूंढ़ सकी है

पंद्रह साल बाद चुनावी संग्राम में उतरे कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का अंदाज़-ए बयां विरोधियों पर भारी पड़ता दिख रहा है. अपने बयानों के कारण सुर्ख़ियों में रहने वाले दिग्विजय अब बदले-बदले नज़र आ रहे हैं. सियासत के चाणक्य कहे जाने वाले दिग्विजय सिंह ने भोपाल सीट पर बीजेपी के सबसे बड़े एजेंडे पर वार कर भगवा ब्रिगेड की टेंशन बढ़ा दी है.

देश की सियासत का जाना-माना चेहरा दिग्विजय सिंह कभी अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहते थे. उनका निशाना संघ और बीजेपी पर रहता था. दिग्विजय सिंह के बयानों को निशाना बनाकर विरोधी दल उन्हें हिंदू विरोधी कहते रहे. हिंदू आतंकवाद शब्द के जरिए देश की सियासत में खलबली मचा देने वाले दिग्विजय सिंह ने अब बाज़ी पलट दी है. उन्होंने हिंदुत्व का ही ऐसा पासा फेंका है कि बीजेपी चारों खाने चित है.

हिंदू विरोधी होने का आरोप झेलने वाले दिग्विजय सिंह ने भोपाल सीट पर नाम घोषित होने के बाद से अपने चेहरे को बदल बीजेपी के सबसे बड़े एजेंडे में सेंध लगा दी है. दिग्विजय सिंह पूरी तरह हिंदुत्व की लीक पर चल रहे हैं. चुनाव मैदान में उतरने से पहले उन्होंने शंकराचार्य व जैन मुनि का आशीर्वाद लिया और फिर रायसेन की प्रसिद्ध और मन्नत वाली दरगाह पर सजदा कर अपने धर्म निरपेक्ष होने का संदेश दिया. उसके बाद से उन्होंने मंदिरों के दर्शन शुरू किए. दिग्विजय सिंह 21 दिन में 50 से ज्यादा हिंदू धार्मिक आयोजन में शामिल हो चुके हैं. यह उनके सॉफ्ट हिंदुत्व की धार को धार दे रहा है.

भोपाल सीट पर दिग्विजय के नाम के एलान के बाद अल्पसंख्यक मंत्री आरिफ अकील ने उन्हें सबसे बड़ा हिंदूवादी चेहरा बताकर इस बात के संकेत दे दिए थे कि हिंदूवादी छवि के सहारे कांग्रेस दिग्विजय चुनाव मैदान में उतरेंगे.

  • नरसिंहपुर के झोतेश्वर मंदिर में दर्शन
  • सीहोर में प्राचीन गणेश मंदिर के दर्शन
  • भोपाल के शिवाजी नगर 6 नंबर पर भागवत कथा
  • लिंक रोड पर बने परशुराम मंदिर में फूलों की होली खेली
  • इंदौर में बिजासन माता और नैनोद मंदिर गए
  • ओंकारेश्वर में परिक्रमा और नर्मदा पूजन में शामिल हुए
  • खंडवा में सिंगाजी धाम के दर्शन
  • भोपाल के गुफा मंदिर में पूजा
  • प्राचीन माता मंदिर में दर्शन पूजन
  • नीलबड़ में चुनरी यात्रा में शामिल
  • हिंदू नववर्ष समारोह में शामिल
  • रामनवमी पर राममंदिर में दर्शन और भव्य राम मंदिर निर्माण का एलान

इसके अलावा दिग्विजय सिंह चुनाव प्रचार शुरू करने से लेकर अब तक करीब एक दर्जन से ज्यादा साधु संतों से मुलाकात कर उनका आशीर्वाद ले चुके हैं. इतना ही नही वो सिख समुदाय और जैन समाज सहित कई समाजों के आयोजनों में शामिल हुए.

दिग्विजय सिंह का बदला अंदाज़ इन दिनों चर्चा में है. बीजेपी अब तक ना तो उनके मुकाबले के लिए प्रत्याशी ढूंढ़ पायी है और अब अपना हिंदुत्व का एजेंडा भी नहीं बचा पायी है. भोपाल ऐसा लोकसभा क्षेत्र है जहां बारह लाख से ज्यादा हिंदू वोटर हैं. उसमें से भी एक बड़ा हिस्सा बीजेपी का परंपरागत वोटर है. दिग्विजय सिंह ने बीजेपी के इसी बड़े वोट बैंक को अपनी हिंदूवादी छवि के जरिए साधने की कोशिश की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *