Madhya Pradesh Budget 2019 : किसानों पर सौगातों की बरसात

भोपाल। वित्तमंत्री तरुण भनोत ने बुधवार को विधानसभा में बजट पेश करते हुए कहा कि जो भी वादे सरकार ने किए हैं उन्हें पूरा किया जाएगा। पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के स्वर्णिम मध्यप्रदेश के राग पर तंज कसते हुए कहा कि 15वें वित्त आयोग ने आईना दिखा दिया है। शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में देश की औसत से प्रदेश बहुत नीचे है। इसमें सुधार के लिए नए अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और उप स्वास्थ्य केंद्र खोले जाएंगे। डॉक्टरों के बैकलॉग के एक हजार 65 और 525 एमबीबीएस डॉक्टरों की बंधपत्र के अनुक्रम में पदस्थापना की जा रही है।

बजट से पहले टैक्स लगाने पर आपत्ति : भाषण शुरू होने से पहले ही नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने बजट से पहले टैक्स लगाए जाने पर आपत्ति उठाई। उन्होंने कहा कि सत्र की अधिसूचना जारी होने के बाद पेट्रोल-डीजल पर अतिरिक्त कर लगाए गए। यह परंपरा के खिलाफ है। जवाब देते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि केंद्र ने हमारे 27 सौ करोड़ रुपए के हिस्से में कटौती कर दी। इस आधार पर एडजस्टमेंट करना होता है, इसलिए किया गया। हालांकि, विपक्ष संतुष्ट नहीं हुआ।

मप्र में पहली बार कोई वित्तमंत्री प्रदेश के हस्तशिल्प को बढ़ावा देने के लिए जूट के फोल्डर में रखकर बजट भाषण लेकर सदन में आया। वित्त मंत्री तरुण भनोत ने बताया कि प्रदेश का हस्तशिल्प ख्याति प्राप्त है। इसकी मार्केटिंग की दरकार है। विधानसभा जाने से पहले घर पर पत्नी मालविका भनोत ने तिलक लगाया और काजू कतली खिलाई। उल्लेखनीय है कि 5 जुलाई को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण नवाचार करते हुए लाल कपड़े में बजट लेकर आई थीं।

बजट की बड़ी बातें :-

– रतलाम की सेंव, मालवा की बाटी-चूरमा, धार की बाग प्रिंट की होगी ब्रांडिंग।

– इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, रीवा और जबलपुर में बर्न यूनिट शुरू होगी।

– केंद्र की रीजनल कनेक्टिविटी योजना के तहत दतिया, रीवा, उज्जैन और छिंदवाड़ा के लिए वायु सेवा।

– प्रदेश में पहली बार ग्वालियर-जबलपुर में डेयरी साइंस और खाद्य प्रसंस्करण कॉलेज खुलेंगे।

– तीन नए सरकारी मेडिकल कॉलेज शुरू होंगे। मौजूदा कॉलेजों में भी 850 सीटें बढ़ाई जाएंगी।

– 4 नए टेक्सटाइल-गारमेंट पार्क और एक कन्फेक्शनरी पार्क स्वीकृत।

– मंडलेश्वर में आयुष चिकित्सालय शुरू होगा। 100 आयुष वेलनेस सेंटर व 9 आयुष विंग भी प्रारंभ होंगे।

– आदिवासी क्षेत्र के ग्रामीण हाट बाजारों में एटीएम स्थापित किए जाएंगे।

– श्रमिकों के कल्याण के लिए मुख्यमंत्री जनकल्याण (नया सवेरा) योजना लागू होगी।

– इंदौर में बिजली खर्च कम करने के लिए सोलर लाइट की स्थापना की जाएगी और ग्रीन बांड जारी किए जाएंगे।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *