सिंधिया ने कमलनाथ सरकार पर उठाया सवाल, बोले- काम में किसी का हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए

ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का कहना है कि सरकार को स्वतंत्र होकर काम करना चाहिए. सरकार के काम में किसी का भी हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए.

गवालियर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में चल रही कांग्रेस नेताओं (Congress Leaders) की बयानबाजी (Rhetoric) और शिकायतों के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का बड़ा बयान सामने आया है. सिंधिया ने अपनी ही सरकार पर सवाल उठाए (Raise questions) हैं. सिंधिया का कहना है कि सरकार को स्वतंत्र होकर काम करना चाहिए. सरकार के काम में किसी का भी हस्तक्षेप (Interference) नहीं होना चाहिए. उन्होंने वन मंत्री उमंग सिंघार (Forest Minister Umang Singhar) का खुले तौर पर समर्थन (Support) करते हुए कहा कि कमलनाथ जी (Kamal Nath Ji) को उमंग सिंघार की बात सुननी चाहिए.

दरअसल, बीते सोमवार को ग्वालियर के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे सिंधिया से मीडिया लगातार वन मंत्री उमंग सिंघार और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बीच बढ़े विवाद को लेकर उनकी प्रतिक्रिया लेना चाह रही थी. हालांकि, सिंधिया ने कुछ भी टिप्पणी ने करते हुए चुप्पी साध रखी थी. मंगलवार को सिंधिया ने इस सवाल को टाल दिया था. इस बीच बुधवार को सिंधिया ने सिंघार का खुलकर समर्थन किया और कहा कि सीएम को उमंग सिंघार की बात सुननी चाहिए.

कांग्रेस-congress
सिंधिया ने कहा कि प्रदेश की जनता को कांग्रेस से कई अपेक्षाएं हैं.

प्रदेश की जनता को कांग्रेस से हैं कई अपेक्षाएं

सिंधिया ने कहा कि बहुत मुश्किल से 15 साल बाद कांग्रेस (Congress) को प्रदेश में सत्ता मिली है. अभी कमलनाथ सरकार को महज 6-7 महीने ही हुए हैं. कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता ने कहा कि लोगों को कांग्रेस से कई अभिलाषाएं (Desires) हैं. उमंग सिंघार ने जो मुद्दे उठाए हैं, उनको सुनना चाहिए. मुख्यमंत्री को इस विषय पर दोनों पक्षों को बैठाकर समाधान निकालना चाहिए. उन्होंने कहा कि पार्टी में मतभेद हो रहे हैं. ऐसे में मुख्यमंत्री का दायित्व होना चाहिए कि दोनों पक्षों को बैठाकर उनमें सुलह कराएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *