550वां प्रकाश पर्व / पाकिस्तान की ओर से आ रहे ड्रोन के बाद सूबे के पांच जिले अतिसंवेदनशील घोषित

चंडीगढ़. गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के लिए होने जा रहे समागमों को लेकर सरकार ने कार्यक्रमों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है। इसके साथ पंजाब में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसअाई की ड्रोन के जरिये की जा रही गतिविधियों के मद्देनजर पंजाब सरकार ने प्रदेश के पांच जिलों को अतिसंवदेनशील घोषित कर दिया है। इनमें अमृतसर, गुरदासपुर, तरतारन, बटाला, सुल्तानपुर लोधी आिद शामिल हैं।

सुल्तानपुर लोधी से लेकर इन संबंधित जिलों में सुरक्षा व्यवस्था के लिए सरकार द्वारा ठोस प्लान बनाया जाएगा। इस संबंध में चीफ सेक्रेटरी के साथ इंटेलिजेंस के अिधकारियों की बैठक के बाद सुरक्षा प्रबंधों के साथ वीवीअाईपी की सुरक्षा पर विचार-विमर्श किया गया। डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि समागमों की सुरक्षा को लेकर बैठकंे की जा रही है। सुरक्षा प्रबंधों की जिम्मेदारी के लिए अफसरों को निर्देश दिए गए हैं। हालांकि इससे किसी को पैनिक होने की जरूरत नहीं है। यह फेस्टिवल सीजन में हर साल किया जाता है।

श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को लेकर सल्तानपुर लोधी समेत विभिन्न जिलों में होने जा रहे समागमों में देश विदेश से संगत पहंुचेगी। यह एक इंटनेशनल समागम है। इसलिए यहां की सुरक्षा व्यवस्था के लिए ठोस प्लान बनाया जाना जरूरी है, ताकि बड़ी संख्या में पहंुचने वाली संगत की सुरक्षा में कोई चूक न हो। इसलिए सरकार ने उक्त पांच जिलों को अतिसंवेदनशील घोषित कर दिया है।

25 पैरामिलिट्री फोर्स की कंपनियां मंगाई जाएंगी
अतिसंवेदनशील घोषित किए पांच जिलों में सुरक्षा व्यवस्था के विशेष प्लान के तहत 18000 कर्मचारियों की फोर्स तैनात की जाएगी। प्रदेश के चार जिलों, जलालाबद, मुकेरियां, फगवाड़ा और दाखा में उपचुनाव भी हैं इसलिए अगर आवश्यकता पड़ेगी तो केंद्र से सरकार 25 पैरामिलिट्री फोर्स की कंपनियां मंगाई जाएंगी। उक्त पांच जिलों में नाकेबंदी के तहत 8-8 चैक पोस्टें बनाई जाएंगी ताकि कहीं भी कोई चूक न हो सकें। इन जिलों में आने वाले लोगों को इन्हीं चैक पोस्टों से हेाकर ही एंटर करना पड़ेगा। वहीं इन पांच जिलों के लिए पांच टीमें भी बनाई गई हैं। इसके तहत कमांडों बटालियन, आईआरबी को तैनात किया जाएगा।


इसलिए उठाया कदम
फेस्टिवल सीजन के चलते सरकार ने तय किया है कि यह व्यवस्था अब से लेकर दिसंबर तक रहेगी, क्योंकि फेस्टिवल सीजन अौर सर्दियों के मौसम का फायदा उठाते हुए कुछ शरातत्वी विभिन्न वारदातों को अंजाम देने की फिराक में रहते हैं। पूर्व में पठाकोट में आतंकी घुसपैठ की सर्दियों के दिनों में ही हुई थी। इसलिए सरकार ने दिसंबर तक अलर्ट जारी किया है।

Please follow and like us:
error0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat