25 साल पुराना मुद्दा सुलझा, 30 हजार शरणार्थियों को मिलेगी नागरिकता, घर-राशन फ्री

पिछले 25 साल से मिजोरम (Mizoram) और त्रिपुरा (Tripura) के बीच चल रहा ब्रू जनजाति (Bru tribes) के शरणार्थियों का मुद्दा सुलझा लिया गया है. करीब 30 हज़ार ब्रू रिफ्यूजियों को त्रिपुरा में बसाया जाएगा. केंद्र सरकार की ओर से त्रिपुरा सरकार इन्हें मदद देगी.

दिल्ली. पिछले 25 साल से मिजोरम (Mizoram) और त्रिपुरा (Tripura) के बीच चल रहा ब्रू जनजाति (Bru tribes) के शरणार्थियों का मुद्दा सुलझा लिया गया है. करीब 30 हज़ार ब्रू रिफ्यूजियों को त्रिपुरा में बसाया जाएगा. इसके साथ ही उन्हें सरकार की तरफ से वित्तीय मदद भी दी जाएगी. सभी ब्रू जनजाति (Bru tribes) के परिवारों को रहने के लिए प्लॉट और खेती की ज़मीन दी जाएगी. साथ ही अगले दो साल तक 5 हज़ार रुपये महीने की मदद भी दी जाएगी. इतना ही नहीं ब्रू जनजाति को त्रिपुरा की वोटर लिस्ट में शामिल किया जाएगा.

मिजोरम में मिज़ो और ब्रू जनजाति (Bru tribes) के बीच संघर्ष के चलते करीब 30 हज़ार ब्रू जनजाति के लोग त्रिपुरा में रिफ्यूजी बनकर रह रहे थे. भारत सरकार, मिजोरम सरकार और त्रिपुरा सरकार के बीच समझौते पर हस्ताक्षर हो रहे हैं कि मिजोरम के इन शरणार्थियों को त्रिपुरा में बसाया जाए. इस मौके पर गृहमंत्री अमित शाह ने बधाई देते हुए कहा कि आखिरकार 25 साल बाद ये मुद्दा सुलझ रहा है. इसके लिए उन्होंने त्रिपुरा सरकार और त्रिपुरा के महाराज को धन्यवाद कहा, जिनके कारण ये समझौता हो सका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *