पत्रकारिता शासन-प्रशासन और जनता के बीच सेतु का काम करती है। नकारात्मक विचारों को सकारात्मक रूप देने के लिए भी चिंतन और प्रयास की आवश्यकता है। आम जनता की बेहतरी के लिए पत्रकारिता का उपयोग कैसे हो, इसके लिए सोचना चाहिए। पत्रकारिता में कार्टूनों व व्यंग्य निश्चित रूप से अपनीContinue Reading

भारत में पत्रकार लगातार कोरोना का शिकार हो रहे हैं. खतरा सिर्फ वायरस तक सीमित नहीं है. पुलिस के डंडे, मुकदमे और नौकरी जाने का डर भी है. ऐसे में मीडिया संस्थान क्या अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं? भारत में कोरोना महामारी थमने का नाम नहीं ले रही है. इसकाContinue Reading

समाजसेवी अधिमान्य पत्रकार महासंघ ने प्रेस काउंसिल का जताया आभार। कोरोना महामारी के दौरान अपनी जान जोखिम में डालकर जिन्होंने अपने कर्तव्य को महत्त्व दिया ऐसे कोरोना योद्धाओं का समाजसेवी अधिमान्य पत्रकार महासंघ द्वारा सेवा योद्धा सम्मान पत्र से पिछले चार माह से सम्मानित कर रहा है। महासंघ के पदाधिकारीContinue Reading

कलम, कागज, और कैंची-सी चलती एक जुबान दागे गए सवाल, सवालों के जवाब आंखों से देखे हर मंजर को दिल में गहरे उतारना हर सुने लफ्ज की सपाट बयानी नहीं बल्कि हर सुने लफ्ज को नाप तौलकर असलियत बयान करना अगर आपने कुदाल चलाया है तो आप शर्तिया ही रिपोर्टरContinue Reading

पत्रकारों का महान दायित्व है. जो पत्रकार महीने–दर–महीने, हफ्ते–दर–हफ्ते, दिन–रातसाजो–सामान जुटाकर नेताओं को बिना किसी किस्म की जवाबदेही के अपनी कुर्सी पर बनाए रखने के लिए लेख पर लेख लिखते हैं, या फलां नेता या फलां सरकार के गुणगान करने में रात-दिन एक कर देते हैं, या, उनकी काली करतूतों के खिलाफ सबूतों कोContinue Reading

पत्रकार बीमा योजना में आवेदन करने की तिथि बढ़ी अब 30 सितम्बर तक जमा हो सकेंगे आवेदन – याकूब खान, प्रदेश मंत्री भोपाल : राज्य शासन जनसम्पर्क विभाग द्वारा पत्रकारों के लिए क्रियान्वित पत्रकार स्वास्थ्य एवं दुर्घटना समूह बीमा योजना में आवेदन की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 30 सितम्बर, 2020Continue Reading

– ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी, प्रदेश उपाध्यक्ष एवं संगठन प्रभारी एक आदमी था, जो हमेशा अपने संगठन में सक्रिय रहता था उसको सभी जानते थे बड़ा मान सम्मान मिलता था, अचानक किसी कारण वश वह निष्क्रिय रहने लगा, मिलना – जुलना बंद कर दिया और संगठन से दूर हो गया।कुछ सप्ताहContinue Reading

साथियों, नमस्कार. केंद्र सरकार ने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को मजबूती प्रदान करने के लिए ‘पत्रकार वेलफेयर स्कीम‘ में संशोधन कर दिया है। यह देशभर के सभी पत्रकारों के लिए लागू हो गया है। … यदि किसी जर्नलिस्ट का निधन हो जाता है या फिर वह विकलांग हो जाता है, तो इस स्कीम के तहतContinue Reading

!!!..एक रोचक तथ्य..!!!जानिए स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस में झंडा फहराने में क्या है अंतर ….15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झंडे को नीचे से रस्सी द्वारा खींच कर ऊपर ले जाया जाता है,फिर खोल कर फहराया जाता है,जिसे “ध्वजारोहण” कहा जाता है क्योंकि यह 15 अगस्त 1947 कीContinue Reading